न्यूजीलैंड दूतावास ने कांग्रेस नेता से मांगी ऑक्सीजन, सरकार पर उठे सवाल तो ट्वीट किया डिलीट, बीवी श्रीनिवास ने पहुंचाए सिलेंडर 

फोकस भारत। न्यूजीलैंड एंबेसी(New Zealand Embassy )ने रविवार को ऑक्सीजन सिलेंडर के लिए कथित तौर पर कांग्रेसी नेता से मदद मांगी। इसके लिए न्यूजीलैंड दूतावास (New Zealand Embassy Controversy) की तरफ से ट्वीट भी किया गया, लेकिन जब सरकार पर सवाल उठे तो दूतावास की तरफ से ट्वीट डिलीट कर दिया गया। दूतावास ने सफाई देते हुए कहा कि उनसे गलती से ट्वीट हो गया था। मसलन रविवार सुबह न्यूजीलैंड दूतावास की तरफ से एक ट्वीट किया गया, इस ट्वीट में दूतावास ने यूथ कांग्रेस के राष्ट्रीय अध्यक्ष बीवी श्रीनिवास (National President BV Srinivas)से ऑक्सीजन सिलेंडर को लेकर मदद मांगी। इस ट्वीट में दूतावास में कांग्रेस के एसओएस ट्विटर अकाउंट को भी टैग किया। दूतावास ने लिखा, “क्या आप न्यूजीलैंड दूतावास में ऑक्सीजन सिलेंडर की तत्काल मदद पहुंचा सकते हैं? धन्यवाद।” इसी ट्वीट पर विवाद होने के बाद  सोशल मीडिया पर सवाल उठे कि सरकार क्या कर रही है, जो विदेशी दूतावासों को भी विपक्षी नेताओं से मदद मांगनी पड़ रही है। विवाद होते ही न्यूजीलैंड एंबेसी ने ट्वीट डिलीट कर दिया और एक नया ट्वीट किया। नए ट्वीट में दूतावास ने लिखा, “हम ऑक्सीजन सिलेंडरों की तत्काल व्यवस्था के लिए सभी सोर्सेस तक पहुंचने की कोशिश कर रहे हैं, हमसे गलती हो गई, जिसके लिए हमें खेद है।”

विदेश मंत्री जयशंकर और जयराम रमेश में कहासुनी

न्यूजीलैंड दूतावास के मदद मांगने के बाद कांग्रेस नेता श्रीनिवास (Deletes Tweet IYC National President BV Srinivas Delivers Cylinder )ने ऑक्सीजन सिलेंडर भी पहुंचा दिए। इससे पहले शनिवार रात को कांग्रेस ने ही फिलीपींस दूतावास दूतावास में भी ऑक्सीजन सिलेंडर पहुंचाए थे। विदेशी दूतावासों को ऑक्सीजन सिलेंडर पहुंचाने पर बीजेपी और कांग्रेस (Congress leader Oxygen Cylinder Controversy Tweet)के बीच कहासुनी भी शुरु हो गई है। कांग्रेस नेता और राज्यसभा सांसद जयराम रमेश ने विदेश मंत्री डॉ. एस. जयशंकर पर हमला किया है, उन्होंने ट्वीट कर कहा कि “एक भारतीय नागरिक के तौर पर  मैं कांग्रेस के प्रयासों को धन्यवाद देता हूं, मैं ये सोचकर हैरान हूं कि विदेशी दूतावासों को एक विपक्षी पार्टी के नेताओं से मदद मांगनी पड़ रही है, क्या विदेश मंत्रालय सो रहा है?”