राजस्थान सरकार ये तस्वीर देखिए आपकी आंखे खुल जाएगी, न तो जीते जी न मरने के बाद मिली एंबुलेंस


फोकस भारत। राजस्थान (Rajasthan Corona) में भी कोरोना का विकराल रुप देखने को मिल रहा है।  राजस्थान सरकार को ये तस्वीर देखनी चाहिए ताकि उनकी आंखे खुल जाए।  प्रशासन कैसे काम कर रहा है। मुख्यमंत्री अशोक गहलोत(CM Ashok Gehlot) संवेदनशीलता दिखा रहे है लेकिन प्रशासन चरमरा गया है प्रदेश में जिसकी जिम्मेदारी भी मुख्यमंत्री गहलोत की है।   शुक्रवार को राजस्थान के भीलवाड़ा (Bhilwara) से झकझोर कर रख देने वाली एक ऐसी ही तस्वीर सामने आई। यहां मजबूर परिजनों को एंबुलेंस न मिलने की वजह से महिला को ठेले पर(Woman Dead Body On Handcart From Hospital) अस्पताल ले जाना पड़ा। वहां किसी डॉक्टर ने उसे देखा तक नहीं। यही नहीं, महिला की मौत के बाद भी संवेदनहीन सिस्टम को शर्म नहीं आई। परिजनों को वापस ठेले पर ही करीब एक किमी.दूर शव को वापस लाना पड़ा।

ये दर्दनाक घटना भीलवाड़ा जिले से 35 किलोमीटर दूर बनेड़ा गांव की है। यहां डेढ़ घंटे तक 108 एंबुलेंस( 108 Ambulance) का इंतजार करने के बाद बीमार मायादेवी छीपा को परिजन ठेले पर ही अस्पताल में लेकर पहुंचे। हैरान कर देने वाली बात है कि कोई निजी वाहन भी उसे ले जाने के लिए तैयार नहीं हुआ। आखिरकार लापरवाह सिस्टम से जूझते हुए बिना इलाज के ही महिला की मौत हो गई। इसके बाद अस्पताल स्टाफ और प्रशासन एक-दूसरे की कमी को छिपाने में लगे रहे। परिजनों ने अस्पताल में हंगामा कर दिया।

woman dies due to lack of 108 ambulance in bhilwara rajasthan woman dead body on handcart from hospital corona death