लखीमपुर खीरी केस: पुलिस के शक की सुई आशीष मिश्रा पर कैसे पुख्ता हुई, जानिए Inside Story

फोकस भारत। (lakhimpur kheri case minister ajay mishra teni son ashish mishra arrested inside story uttar pradesh ) उत्तर प्रदेश के  लखीमपुर खीरी (Lakhimpur Kheri Case) में हुई हिंसा में किसानों व अन्‍य की मौत के मामले में उत्तर प्रदेश पुलिस ने शनिवार को केंद्रीय गृह राज्‍यमंत्री अजय मिश्रा (Ashish Mishra) के बेटे आशीष मिश्रा को गिरफ्तार कर लिया है। हत्या के एक मामले में नामजद होने के पांच दिन बाद उनकी गिरफ्तारी हुई।आशीष मिश्रा का नाम किसानों द्वारा दायर एक एफआईआर में दर्ज किया गया था।  इस घटना और भड़की हिंसा में चार किसानों और काफिले के चार लोगों सहित आठ लोगों की मौत हो गई। हालांकि केंद्रीय मंत्री के बेटे आशीष मिश्रा ने स्वीकार किया कि किसानों के ऊपर से दौड़ी एसयूवी उनकी है, लेकिन उनका कहना है कि वह उसमें नहीं थे।आखिर रसूखदार आशीष मिश्रा की गिरफ्तारी के पीछे की Inside Story आपको बताते है।

 

सूत्रों के मुताबिक रविवार को आशीष मिश्रा ने कहा था कि वह घटनास्थल से करीब 4-5 किलोमीटर दूर कुश्ती प्रतियोगिता में उपस्थित थे, वहीं मौके पर तैनात पुलिसकर्मियों और वहां मौजूद लोगों के बयानों से पता चलता है कि मंत्री के बेटे वहां से दोपहर 2 बजे से लेकर 4 बजे के बीच गायब थे। सूत्रों के मुताबिक आशीष मिश्रा के मोबाइल टावर की लोकेशन भी घटनास्थल और उसके आसपास दिखी है, हालांकि आशीष मिश्रा ने पुलिस को बताया है कि वह उस समय अपनी चावल मिल में थे, जो उसी मोबाइल टावर और घटनास्थल के पास है। आशीष मिश्रा के खिलाफ दर्ज एफआईआर में कहा गया था कि किसानों के ऊपर चलाई गई महिंद्रा थार हरिओम चला रहा था। पुलिस द्वारा विश्लेषण किए गए वीडियो से पता चलता है कि सफेद शर्ट या कुर्ता पहने एक व्यक्ति थार चला रहा है। जब उसका शव अस्पताल लाया गया तो हरिओम पीले रंग का कुर्ता पहने पाया गया। दरअसल सूत्रों ने कहा कि विवाद के इन तीन बिंदुओं और आशीष मिश्रा के तथ्यों के साथ सामने नहीं आने के आधार पर उन्हें गिरफ्तार कर लिया गया।