Bansgaon Assembly Seat: उत्तर प्रदेश की दमदार नेत्री ‘स्नेहलता गौतम’

Uttar Pradesh Assembly Election: राजनीतिक पंड़ित कहते है कि पूर्वांचल जिसके साथ खड़ा होता है लोक भवन की पांचवी मंजिल पर उसका राज होता है, गोरखपुर जनपद की सभी 9 विधानसभा सीटें अहम है उत्तर विधानसभा चुनाव के लिहाज से। सियासी रूप से पूर्वांचल बहुत खास हो जाता है, यहां 28 जिलों में 162 विधानसभा सीट जिस सियासी दल के लिए दरवाजे खोल देती है सरकार उसी की बनती है। आज हम बात करेंगे गोरखपुर जनपद की अहम विधानसभा सीट बांसगांव Bansgaon Assembly Seatकी। जहां से कांग्रेस पार्टी की दमदार नेत्री स्नेहलता गौतम चुनावी रण में मजबूती से ताल ठोक रही है।UP Elections 2022 –

 

दमदार नेत्री- स्नेहलता गौतम (Snehlata Gautam)

स्नेहलता गौतम की लोकप्रियता की बात करें तो वे शुरू से समाज सेवा से जुड़े रही, कांग्रेस पार्टी की दमदार और जुझारु नेत्री है।  गरीबों की मदद करने के साथ ही महिलाओं की आवाज को हमेशा बुलंद करती आ रही है।  वर्तमान में अखिल भारतीय कांग्रेस कमेटी की सदस्य है। स्नेहलता ने संगठन में कई अहम पदों पर रहते हुए पार्टी को मजबूत करने में अहम रोल अदा किया है। बिना किसी राजनीतिक पृष्ठभूमि के अपने दम पर राजनीति के क्षेत्र में अपनी अलग पहचान कायम की है।  राजनीतिक विश्लेषक कहते है कि अगर कांग्रेस पार्टी ने बांसगांव विधानसभा सीट से स्नेहलता गौतम को मैदान में उतारा तो बीजेपी को कांटे की टक्कर मिल सकती है। इस सीट पर स्नेहलता गौतम का दावा मजबूत दिखाई दे रहा है।

 

 

राजनीतिक पृष्ठभूमि

उत्तर प्रदेश राज्य के  गोरखपुर जिले में बांसगांव विधानसभा सीट  है। क्षेत्र के प्रसिद्ध स्थलों में कुलदेवी का मंदिर प्रमुख है, इस मंदिर की अपनी ही मान्यता है। शारदीय नवरात्र की नवमी के दिन यहां पर बहुत बड़ा मेला लगता है । लखनऊ से इस निर्वाचन क्षेत्र की दूरी लगभग 283 किलोमीटर है। बांसगांव विधानसभा में करीब 3,70,474 मतदाता है। इस विधानसभा क्षेत्र में अनुसूचित जाति और अनुसूचित जनजाति के वोटरों की संख्या ज्यादा है। इस विधानसभा क्षेत्र में पासी समुदाय के वोटर भी ज्यादा हैं, इस विधानसभा क्षेत्र में हर जाति वर्ग के मतदाता हैं। पासवान बिरादरीऔर अगड़ी जाति का वोट जीत में अहम भूमिका निभाता है, बांसगांव में 40 हजार निषाद वोटर हैं।  इस सीट पर अनुसूचित जाति और जनजाति के वोटरों की संख्या अधिक है, ये सीट  आरक्षित है।

गोरखपुर जिले की बांसगांव विधानसभा सीट आरक्षित है। साल 2017 में बांसगांव विधानसभा सुरक्षित सीट से बीजेपी से पहली बार डॉक्टर विमलेश पासवान चुनाव लड़े जिनको 71966 वोट मिले और उनके प्रतिद्वंदी बहुजन समाज पार्टी (बीएसपी) प्रत्याशी धर्मेंद्र कुमार को 49093 वोट मिले। उन्होंने अपने प्रतिद्वंदी को 22873 वोट से हराकर जीत दर्ज की। आरक्षित श्रेणी की इस सीट से वर्तमान  विधायक डॉक्टर विमलेश पासवान के पिता ओमप्रकाश पासवान ने पहले राजनीति की इसके बाद उनकी माताजी सुभावती पासवान ने सांसद का चुनाव जीता जबकि विधायक के बड़े भाई कमलेश पासवान भारतीय जनता पार्टी (बीजेपी) के टिकट पर तीसरी बार चुनाव जीते और सांसद बने। बीजेपी में इस सीट पर परिवारवाद की छाप दिखाई दे रही है।  वर्तमान विधायक के अब  बड़े भाई इसी क्षेत्र से सांसद हैं और इसी क्षेत्र से अब विमलेश पासवान विधायक बने तो स्वाभाविक सी बात है कि इस क्षेत्र के लोग परिवारवाद की बात जरूर करेंगे, बांसगांव क्षेत्र से दलितों के नेता महावीर प्रसाद जो केंद्र में मंत्री भी रहे और इस क्षेत्र से सांसद भी रहे उसके बाद पासवान परिवार का इस लोकसभा और विधानसभा दोनों पर कब्जा लगातार बना हुआ है। बीच में केवल तीन बार बसपा का कब्जा था उसके बाद बीजेपी ने इस सीट पर कब्जा कर लिया। ऐसे में कांग्रेस पार्टी के लिए इस सीट पर जमीन से जुड़े हुए प्रत्याशी को मैदान में उतारने पर कांटे की टक्कर हो सकती है। राजनीतिक विश्लेषक कहते है कि  गोरखपुर  की सियासत मठ के इर्द गिर्द घूमती रही है। लेकिन 2018 के लोकसभा उपचुनाव में समीकरण बदल गए और उसका सूत्रधार निषाद समाज था। गोरखपुर शहर, गोरखपुर ग्रामीण, पिपराइच, कैंपियरगंज, चौरीचौरा, सहजनवां और बांसगांव विधानसभा क्षेत्र में ही पांच लाख से ज्यादा निषाद वोटर हैं। खजनी और चिल्लूपार विधानसभा क्षेत्र में एक लाख से ज्यादा वोटर हैं। पूर्वांचल की लगभग 50 से ज्यादा विधानसभा सीटों पर निषाद वोटर प्रभावी भूमिका निभाते हैं

 

बांसगांव (सुरक्षित) विधानसभा चुनाव परिणाम (2017)

उम्मीदवार का नाम पार्टी स्थान कुल वोट वोट प्रतिशत % मार्जिन
विमलेश पासवान भाजपा विजेता 71,966 40.25% 22,873
धर्मेन्द्र कुमार बसपा दूसरे स्थान पर 49,093 27.45%
Sharada Devi सपा 3rd 44,051 24.63%
नंदलाल निशद 4th 7,892 4.41%
None Of The Above नोटा 5th 2,143 1.20%
रामधारी आईएनडी 6th 1,496 0.84%
पुष्पा देवी बीएमयूपी 7th 798 0.45%
राम सिंह जनदीप 8th 742 0.41%
सावित्री पड़ना 9th 637 0.36%

बांसगांव (सुरक्षित) अब तक विधानसभा चुनाव परिणाम

साल
उम्मीदवार का नाम पार्टी स्थान कुल वोट वोट प्रतिशत % मार्जिन
2017
विमलेश पासवान भाजपा विजेता 71,966 40.25% 22,873
धर्मेन्द्र कुमार बसपा दूसरे स्थान पर 49,093 27.45%
2012
डॉ. विजय कुमार बसपा विजेता 53,690 36% 8,346
शारदा देवी सपा दूसरे स्थान पर 45,344 30%
2007
सदल प्रसद बसपा विजेता 41,586 35% 2,284
संत प्रसाद भाजपा दूसरे स्थान पर 39,302 33%
2002
सदल प्रसद बसपा विजेता 59,525 47% 21,739
संत प्रसाद भाजपा दूसरे स्थान पर 37,786 30%
1996
संत भाजपा विजेता 46,310 38% 11,034
सदल जेडी दूसरे स्थान पर 35,276 29%
1993
मोलई बसपा विजेता 33,611 32% 599
मिठाईलाल शास्‍त्री भाजपा दूसरे स्थान पर 33,012 32%
1991
यदुनाथ भाजपा विजेता 24,821 31% 6,769
मुखलाल बसपा दूसरे स्थान पर 18,052 23%
1989
मिठाई लाल शास्त्री भाजपा विजेता 34,890 38% 16,748
रामप्रीत जख्मी बसपा दूसरे स्थान पर 18,142 20%
1985
कैलाश प्रसाद कांग्रेस विजेता 28,800 54% 20,575
मिठाई लाल भाजपा दूसरे स्थान पर 8,225 15%
1980
कैलाश प्रसाद इंक (I) विजेता 21,099 42% 15,240
फौजदार प्रसाद जेएनपी (जेपी) दूसरे स्थान पर 5,859 12%
1977
बाबू लाल जेएनपी विजेता 28,653 56% 7,475
महाबीर प्रसाद कांग्रेस दूसरे स्थान पर 21,178 41%

गोरखपुर जनपद के विधानसभा निर्वाचन क्षेत्र – 9

320-कैम्पियरगंज विधानसभा,
321-पिपराइच विधानसभा,
322-गोरखपुर शहर विधानसभा,
323- गोरखपुर ग्रामीण विधानसभा,
324-सहजनवा विधानसभा,
326- खजनी (एससी) विधानसभा,
325- चौरी-चौरा विधानसभा,
327- बांसगांव (एससी) विधानसभा,
328-चिल्लूपार विधानसभा,