Featured

हरियाणा प्रदेश महिला कांग्रेस ने किया कुमारी शैलजा का स्वागत, नारीशक्ति का बढ़ेगा मनोबल

फोकस भारत । विधानसभा चुनाव से पहले हरियाणा कांग्रेस में बड़ा बदलाव हुआ है। पार्टी की वरिष्ठ नेत्री कुमारी शैलजा  को हरियाणा कांग्रेस का अध्यक्ष बनाया गया है। साथ ही पूर्व मुख्यमंत्री भूपेंदर सिंह हुड्डा  विधानसभा में विपक्ष के नेता रहेंगे। इसके अलावा हुड्डा चुनाव प्रबंधन कमेटी के प्रमुख भी होंगे।   प्रदेश महिला कांग्रेस ने किया स्वागत हरियाणा प्रदेश महिला कांग्रेस की अध्यक्ष सुमित्रा चौहान ने मुंह मीठा कराकर

कुमारी शैलजा बनीं हरियाणा कांग्रेस चीफ, विधानसभा चुनाव में मिलेगा फायदा ?

फोकस भारत। हरियाणा कांग्रेस की राजनीति में आलाकमान ने जो बदलाव किया है वो सूबे के पार्टी के कार्यकर्ताओं में नई ऊर्जा का संचार करेगा। जी हां कुमारी शैलजा को हरियाणा कांग्रेस का प्रदेश अध्यक्ष बनाया गया है। कुमारी शैलजा गांधी परिवार की बहुत नजदीकी मानी जाती हैं। सोनिया गांधी के करीबी नेताओं में वो गिनी जाती हैं। दरअसल हरियाणा में पूर्व मुख्यमंत्री भूपेंद्र सिंह हुड्डा से लड़ाई में अशोक

महामण्डलेश्वर सरोजिनी गिरीजी यहां से लड़ सकती है विधानसभा चुनाव

फोकस भारत। हरियाणा राज्य के विधानसभा चुनाव 2019 का समय नजदीक आ गया है । ऐसे में चुनावी चर्चा गर्मायी हुई है राज्य में। ऐसे एक विधानसभा सीट है बादली जो इन दिनों चर्चा का विषय बनी हुई है क्योंकि यहां से  वरिष्ठ भाजपा नेत्री व समाज सेविका महामण्डलेश्वर सरोजिनी गिरी जी महाराज ( जुना अखाड़ा) की चुनाव लड़ने की संभावना जताई जा रही है। 2014 के विधानसभा चुनाव में

राम के वंशजों के दावेदार बढ़े,अब अखिल भारतीय क्षत्रिय महासभा के राष्ट्रीय अध्यक्ष ने किया दावा

फोकस भारत। अखिल भारतीय क्षत्रिय महासभा के राष्ट्रीय अध्यक्ष राजा राजेन्द्र सिंह ने राम के वंशज होने का  सुप्रीम कोर्ट के समक्ष शपथपत्र प्रस्तुत किया है। दरअसल सुप्रीम कोर्ट ने अयोध्या विवाद की सुनवाई के दौरान श्री राम के वंशजों के बारे में सवाल पूछा था। इसके बाद राजस्थान में कई लोगों ने राम के वंश होने का दावा किया। जयपुर राजघराने की दीयाकुमारी ने खुद को श्री राम के

हरियाणा के नामी बिजनेसमैन रवि चौहान BJP में शामिल, यहां से लड़ सकते है चुनाव

फोकस भारत। हरियाणा विधानसभा चुनाव 2019 का काउन डाउन शुरु हो गया है। सितम्बर के पहले सप्ताह में आंचार संहिता लगने संभावना है ऐसे में  बीजेपी का कुनबा लगातार बढ़ता ही जा रहा है। लोकसभा चुनाव में मिली बड़ी जीत के बाद से ही सभी नेता और विधायक  मुख्यमंत्री मनोहर लाल खट्टर की नीतियों से प्रभावित होकर बीजेपी का दामन थाम रहे हैं। इसी कड़ी में मनोहर सरकार की नीतियों

सुषमा स्वराज 25 साल की उम्र में बनी थीं केंद्रीय मंत्री

फोकस भारत। पूर्व विदेश मंत्री और भारतीय जनता पार्टी की दिग्गज नेत्री सुषमा स्वराज का निधन हो गया है। पिछले कुछ महीनों से वो बीमार थीं, जिस वजह उन्होंने लोकसभा चुनाव लड़ने से मना कर दिया था। सुषमा स्वराज आखिरी बार लोकसभा चुनाव के बाद शपथ ग्रहण के दौरान नजर आई थीं। सुषमा स्वराज ने 67 साल की उम्र में दिल्ली स्थित AIIMS में आखिरी सांस लीं। मिसाल- सुषमा स्वराज

सुषमा स्वराज का आखिरी ट्वीट

फोकस भारत। पूर्व विदेश मंत्री रहीं सुषमा स्वराज का निधन हो गया। 6 अगस्त को उनका एम्स में इलाज के दौरान निधन हुआ। हार्ट अटैक के बाद 67 साल की उम्र में सुषमा ने इस दुनिया को अलविदा कह दिया। दिल्ली के एम्स में उन्होंने आखिरी सांस ली. रिपोर्ट्स के मुताबिक उन्हें हार्ट अटैक आने के बाद अस्पताल में भर्ती करवाया गया था। सुषमा स्वराज ने 6 अगस्त को ही

दिल्ली की पहली महिला मुख्यमंत्री सुषमा स्वराज का निधन

फोकस भारत। पूर्व विदेश मंत्री और बीजेपी की  दिग्गज नेत्री सुषमा स्वराज का दिल्ली के एम्स अस्पताल में दिल का दौरा पड़ने की वजह से निधन हो गया। वे लंबे अर्से से बीमार चल रही थीं और उनका किडनी ट्रांसप्लांट भी हुआ था। बीमारी की वजह से ही उन्होंने 2019 लोकसभा चुनाव से खुद को अलग रखा था। सुषमा स्वराज देश की पहली महिला विदेश मंत्री थीं।  बीजेपी के शासन

शीला दीक्षित का निधन, 15 साल तक रहीं दिल्ली की मुख्यमंत्री

फोकस भारत। कांग्रेस की दिग्गज नेत्री और दिल्ली कांग्रेस अध्यक्ष शीला दीक्षित का शनिवार दोपहर को निधन हो गया। वे 81 साल की थी। शीला दीक्षित 15 साल तक दिल्ली की मुख्यमंत्री भी रहीं। दरअसल शीला दीक्षित का जन्म 31 मार्च 1938 को पंजाब के कपूरथला में हुआ था। वे दिल्ली की तीन बार मुख्यमंत्री भी रहीं। 2014 में उन्हें केरल का राज्यपाल बनाया गया था। हालांकि, उन्होेंने 25 अगस्त

पायलट ने क्यो पत्रकारों को कहा कि आप कठिन सवाल नहीं पूछते ?

फोकस भारत। राजस्थान कांग्रेस की राजनीति में आपसी खींचतान अब खुलकर सामने आ गई है।  दरअसल राजनीतिक पंडित मानते है कि राजस्थान के मुख्यमंत्री अशोक गहलोत के बारे में कहा जाता है कि उन्हें पता है कि कब, कहां और कितना बोलना है। उन्हें यूं ही सियासतत का जादूगर नही का जाता है। उनके हर शब्द के राजनीतिक मायने होते है ऐसे में बजट पेश करने के बाद पत्रकारों से बात