Rajasthan Budget 2019-20: ‘9 महीने मिलेगा फायदा, दूरगामी परिणाम कम’

Rajasthan Budget 2019-20: '9 महीने मिलेगा फायदा, दूरगामी परिणाम कम'

फोकस भारत। राजस्थान में कांग्रेस की अशोक गहलोत सरकार ने बुधवार को अपना पहला बजट पेश किया। विधानसभा में 1 घंटे 35 मिनट तक बजट भाषण में सीएम गहलोत ने किसी नए कर की घोषणा नहीं की।गहलोत ने कहा है ये बजट जनता से पूछकर तैयार किया है। हम विकास के लिए बजट पेश कर रहे हैं। बजट में गहलोत ने जयपुर को शहर को भिक्षामुक्त शहर बनाने की घोषणा के साथ ही 21 करोड़ की लागत से राजधानी में कॅरियर कॉउंसलिंग सेंटर बनाने और 75 हजार नई भर्तियों की घोषणा की। किसानों के लिए बड़ी घोषणा करते हुए गहलोत ने ईज ऑफ डूइंग बिजनेस की तर्ज पर ईज ऑफ डूइंग फार्मिंग का नया फार्मूला दिया.।ईज ऑफ डूइंग फार्मिंग के लिए 1000 करोड़ के किसान कल्याण कोष बनाने की घोषणा की। बजट भाषण पूरा होने के बाद विधानसभा की कार्यवाही गुरुवार तक के लिए स्थगित कर दी गई

बजट में प्रमुख घोषणाएं-

-कुचामन डेगाना नागौर के कुल 1926 ढाणियों में रहने वाले 315000 की आबादी को लाभान्वित करने के लिए परियोजना स्वीकृत

-बीकानेर में भी पेयजल परियोजना की 11 लाख 40000 आबादी को परियोजना पेयजल

-जवाई बाध से शिवगंज ग्रामीण क्षेत्र के लिए पेयजल परियोजना के लिए  डीपीआर तैयार की जाएगी

-नवीन औद्योगिक क्षेत्रों की भी स्थापना की घोषणा

-MSME के नए कानून बनाने का जिक्र

-उद्यमियों को प्रतिस्पर्धा के लिए मुख्यमंत्री लघु उद्यमी योजना की घोषणा

-10 करोड़ तक के ऋण पर ब्याज अनुदान दिया जाएगा, इसमें स्वयं सहायता समूहों को भी चिन्हित किया जाएगा।

-इसके लिए 2019-2020 में 50 करोड़ और ढाई वर्षों में 200 करोड़ का प्रावधान होगा।

-3 वर्ष तक बिना रजिस्ट्रेशन उद्योग चलाने की मंजूरी वाला पहला राज्य।

-राज्य में मोहल्ला और जनता क्लीनिक खोले जाएंगे।

-निःशुल्क जांच की सुविधा 70 से बढ़ाकर 90 कराने की घोषणा।

-मेडिकल कॉलेज से संबंधित सभी अस्पतालों में होगी जांच।

-किडनी, हार्ट और कैंसर जैसे गंभीर रोग की दवाएं निःशुल्क दवा योजना में शामिल।

-कुल 104 प्रकार की नई दवाएं भी इसमें शामिल करने की घोषणाएं.।

– गुटखा आदि खाने की रोक की योजना बनेगी।

-श्रीगंगानगर में मेडिकल कॉलेज की स्थापना की घोषणा।

-50 करोड़ की लागत से महात्मा गांधी संस्थान बनाने की घोषणा।

-गांधी दर्शन म्यूजियम भी बनाया जाएगा।

-राजीव गांधी जल संचय योजना शुरू करने की भी घोषणा।

-प्रदेश के गांवों में मास्टर प्लान बनाए जांएगे।

-वृद्धावस्था, विधवा और निशक्त पेंशन बढ़ाने की घोषणा

-पेंशन में वृद्धि से 62 लाख पेंशनधारियों को लाभ

-गंगापुर सिटी के वर्तमान चिकित्सालय को क्रमोन्नत करने की घोषणा

-शिशु मृत्यु दर में कमी लाने के उद्देश्य से राज्य के चिकित्सा संस्थानों में

इंदिरा प्रियदर्शिनी बेबी किट उपलब्ध करवाई जाएगी

-अस्पतालों में 500 बेड बढ़ाए जाएंगे

-राज्य के कुचामन सिटी में अस्पताल में ब्लड बैंक की स्थापना की जाएगी

– इलेक्ट्रिक वाहनों के उपयोग को प्राथमिकता दी जाएगी

-वाहन प्रदूषण में कमी लाने, पर्यावरण संरक्षण के लिए प्राथमिकता

– इलेक्ट्रिकल व्हीकल नीति लाई जाएगी

 

राजनीतिक पंडित कहते है कि राजस्थान सरकार ने अपने पहले बजट को संतुलित रखा है, इस बजट से जनता को 9 महीने फायदा मिल सकता है लेकिन इसमें दूरगामी परिणाम कम मिलेगे हालांकि मेट्रो फेज 2 के विस्तार का जिक्र है जिसका फायदा आने वाले 20-25 सालो में होगा। इसके अलावा कोई दूरगामी योजना नही है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *